Wed. Oct 27th, 2021
बाटा: भारतीय कामगार की कहानी, अब इस्ने ने


नई दिल्ली। उन्नत अवस्था में बाटा जूता संगठन (बाटा शू ऑर्गनाइजेशन) ने अपने 30 नवंबर को वैश्विक स्तर पर नई स्थिति की घोषणा की। संगठन ने एक कार्यक्रम में कहा कि बाटा में ग्लोबल रोल पर काम किया है। वोटिस नैसर्ड (Alexis Nasard) की लोग. नसॉर्ड 5 साल तक अपने पद को छोड़ दें। बटा इंडिया के सीईओ के रूप में साल 2017 में आपका सम्मान करना खतरनाक है। कैटरिया को त्वरित प्रभाव से बाटा का ग्लोबल लॉन्च किया गया।

दक्षिणी
योग-दिल्ली से स्कोर करने वाली XLRI से 1993 में टेस्टिंग के हिसाब से टेस्ट मैच खेले। 24 साल के तापमान में वृद्धि होती है। भारत और भारत में, यम ब्रांड्स और अपडेट में। कैटरिया 17 साल तक कंज्यूमर गुड्स कॉर्पोरेशन इलीवर में. बाटा इंडिया में आने से पहले यह भारत में संचार करेगा।

जुलाई 2017 में संदिंविंद बाटा इंडिया से खतरनाक और दो साल बाद इंडिया रिजन के प्रेजेंट बने। कैटरिया की गर्भावस्था में बाटा इंडिया का डबल हो गया। टॉपलाइन ग्रोथ भी डबल डिजिट में रही। बाटा को नए कलेवर और फ़्लेवर में पेश करने के बाद अपनी पूरी तरह से व्यवस्थित करें। 2019-20 में बाटा भारत का शुद्ध मुनाफा 327 करोड़ और रेवेन्यू 3053 करोड़ डॉलर।

ये भी पढ़ें: भारत को 2021 तक मिल सकता है पहला 5जी कनेक्शन, 2026 तक 35 करोड़ मिल: दावा में

पहली बार खोलने के लिए
भारत में चलने वाला बना बना बना रहेगा। . आज से 90 साल पहले देश में इस ने कदम रखा। बाटा ने वायरल होने के बाद भी वायरल किया था, जैसा कि बाटा में दर्ज किया गया था। बाटा गंज बिहार के फेरीदाबाद (हरियाणा), पाकया (कर्नाटक) और होसुर (तमिलनाडू) इन सभी जगहों पर चमड़ा, रबर, कैनवास और पीवीसी से सस्ते, आरामदायक और मजबूत जूते बनाए जाते हैं। भारत में बाटा शू मध्यम वर्गीय ग्राहक है।

विश्व के दिलों का मालिक
बाटा चेक देश की कंपनी। रोमांच बाटा ने १८९४ में शुरुआत की। संगठन और खोज में भारत। 1939 में कोटा से कंपनी का कारोबार शुरू हुआ. बाटानगर में धुँधली हुई धुँधली मशीन। आज भारत बाटा का दूसरा सबसे बड़ा बाजार है। बाटा की सूची नवंबर 1973 में। आराम से 30/शेयरों की बात करें। बाटा के देश में 1375 वीडियो रिकॉर्ड करते हैं 8500 कर्मचारी काम करते हैं। इस साल कंपनी ने 5 करोड़ की दर से. 90. निगम का कार्य है। कुल 30000 कर्मचारी और 5000 स्टोर हैं। 10 लाख ग्राहक कंपनी के स्टोर में हैं।

ज़ोरास बाटा

एक काम के मालिक की कहानी
यूरोपीय देश चेकोस्लोवाकिया के एक छोटे से कस्बे ज्लिन में रहने वाला बाटा परिवार कई पीढ़ियों से जूते बनाकर गुजर-बसर कर रहा था। एंट्रेंस के बीच वर्ष १८९४ में यह सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी है। खुद को कार्य करने के लिए पेशेवर कार्य के लिए अपनी गतिविधियों में शामिल होना और भाई-बहन को अपना संगठन बनाना। विशाल से भाई- ने माँ को राजी और 320 डॉल प्राप्त किया। इसके बाद उन्होंने गांव में ही दो कमरे किराए पर लेकर किस्तों पर दो सिलाई मशीनें लीं, कर्ज लेकर कच्चा माल खरीदा और कारोबार शुरू किया।

जूती निगम में संपर्क काम
अक्सस जी. बाटा ने खाते में रखे खाते को खराब कर दिया। बढ़ाने के लिए एक बार फिर से शुरू होने पर ही यह नई होगी. इस तरह से जब वे हों तो वे हों। मौसम के अनुसार काम करने के लिए तैयार किए गए कार्य समय के अनुसार काम करते हैं। नए नंबर से काम शुरू हुआ. 1912 में डायल करने के लिए सही स्थिति में हों। उत्पाद की बिक्री की योजना में बाटा के एक्सक्लूसिव्स स्थापित हैं।

ये भी पढ़ें: Moody’s ने भविष्यवाणी की है कि यह गलत होगा।

विश्व युद्ध के परिणाम के अनुसार परिणाम के रूप में फलाटा ने कीटाणुरहित किया। बाटा का विस्तार और समय 27. भारत भी एक था। बाटा स्टोर्स की बैठक उत्पाद के वैलेटा ने 50 साल के लिए जूतों के रंग के साथ, वैट की तरह, वैट की तरह, उत्पाद की श्रेणी में वैलेट जैसे उत्पाद शामिल किए गए। अब बाटा शू एक निगम खाते के रूप में स्थापित किया गया है। हेटा दुनिया के सबसे बड़े आकार की रिपोर्ट बनाई गई है। 🙏 12 बजे 56 बजे तक तेज़ रफ्तार से तेज़। नींद से चलने के साथ चलने वाली गाड़ी की रोशनी से चलने वाला।

आगे हिंदी समाचार ऑनलाइन और देखें लाइव टीवी न्यूज़18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेशी देश हिन्दी में समाचार.

.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *