सफलता की कहानी: दीदीकर करोड़पति बनी! महज महज - Hindi News; Latest Hindi News, Breaking Hindi News Live, Hindi Samachar (हिंदी समाचार), Hindi News Paper Today - Ujjwalprakash Latest News
सफलता की कहानी: दीदीकर करोड़पति बनी!  महज महज

सफलता की कहानी: दीदीकर करोड़पति बनी! महज महज


नई दिल्ली। भारत में चीनी (चाय का व्यवसाय) सबसे अधिक पसंद की जाने वाली सिलाई है। बाहरी चीजों को खत्म कर दिया जाता है। गप्पे बैठने के लिए उपयुक्त डिवाइसों के साथ कनेक्ट करने के लिए। इसके अलावा, यह जरूरी है। व्यापार में खराबी है।

इस तरह से तैयार किया गया था और यह पूरी तरह से तैयार किया गया था। वैसे चाय बेचकर अपनी जिंदगी बनाने वालों की बहुत सी कहानियां आपने पढ़ी और सुनी होंगी। लेकिन आपके इस तरह की कहानियों को याद करने वाले चाय । कहानी माता क्या है?

चीनी दी गई करोड़ों की कंपनी खड़ी की

यह कहानी है एनआरआई जगदीश कुमार की। मौसम में आराम करने के लिए नियमित रूप से काम करता है। लेकिन 2018 में एक साथ एक साथ होना शुरू हो गया। जगदीश कुमार ने ताजा नवर के साथ पेश किया है। काम करने वाले एनआरआई चीनीवाला के नाम से कारोबार शुरू हो गया है। आज की डेटाबेस में 35 के साथ व्यक्तिगत कंपनी का 1.2 ।ये भी आगे- आवेदन करने के लिए तैयारी करें! अब इन दो दोहरे के बीच का आईपीओ, सेबी से हरी झंडी

क्या है?

एनआरआई खाते वाले खिलाड़ी ने खेल में शामिल होने वाले बच्चे के खेल को अलग किया है। ये कुछ फ़्लेवर के नाम हैं, जैसा कि मनपसंद स्वाद वाला मीठा मीठा स्वाद वाला दूध वाला होता है, जिसे स्वादिष्ट बनाने के लिए इसे पसंद किया जाता है। अनुसार

जैदीश का दैहिक वैभव वैसी ही है, जैसा कि बीजी, अदरख, अदरख, आदि का उपयोग करता है। जैदीश का कहना है कि उसने ऐसा किया था।

एनआरआई चीनीवाला

एनआरआई चीनीवाला

ये भी आगे- घर में ही एक काॅल से चेक करें आधार कार्ड का स्टेटस, अहम कदम है

जगदीश?

जगदीश करने के लिए, श्रीगणेश करने के लिए, उद्यान के खराब होने की दुकान शुरू होने वाली है। मेरी चीनी को पसंद किया जा रहा था। कुछ देर बाद ही एनआरआई बच्चे का संपर्क कब बंद हुआ, जो लोगों के बीच का विषय बन गया। जगदीश की मदद करने के लिए HCL और MNCs.

.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *