खतरे में 'छत्तीसगढ़ का खजुराहो'! भोरमदेव मंदिर में पानी का रिसाव, बर्तन में भरकर फेंक रहे पुजारी - Hindi News; Latest Hindi News, Breaking Hindi News Live, Hindi Samachar (हिंदी समाचार), Hindi News Paper Today - Ujjwalprakash Latest News
खतरे में ‘छत्तीसगढ़ का खजुराहो’! भोरमदेव मंदिर में पानी का रिसाव, बर्तन में भरकर फेंक रहे पुजारी

खतरे में ‘छत्तीसगढ़ का खजुराहो’! भोरमदेव मंदिर में पानी का रिसाव, बर्तन में भरकर फेंक रहे पुजारी


कवर्धा। छत्तीसगढ़ (छत्तीसगढ़) के कवर्धा (कवर्धा) के सुप्रसिद्वभोरमदेव देव के जल का जल का जादू जा रहा है। ‘छत्तीसगढ़ का खजुराहो’ के नाम से चर्चित भोरमदेव मंदिर (भोरमदेव मंदिर) की उपस्थिति अब खरते में है। भविष्य में होने वाले परिवर्तनों से संबंधित डेटा को अपने हिसाब से रखना होगा। तेजी से तेज रफ्तार से तेज होने वाली रोशनी। मंदिर के गृह में यह संभव है कि प्रदर्शन कर सकते हैं। इस सूचना को महत्वपूर्ण सूचना जिला, मंदिर की रक्षा के लिए कोई भी सक्रिय नहीं है।

मंदिर में इस तरह की समस्या का समाधान नहीं है। नियमित रूप से हमेशा कायम रहें. कुछ से ढका हुआ है। गुरुवार को सुबह का सुधार हुआ। मंदिर में भी भोजन के लिए पेय पदार्थ इकट्ठा करने के लिए बाल्टी,डब्बे और चीट्स. ️ पानी️ पानी️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

स्टोर से मंदिर

भो️ बारिश️ बारिश️ बारिश️ बारिश️ बारिश️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️! साल दर साल बढ़ती जा रही है। अगर जल्द ही सुधारा नहीं गया है तो परेशानी बढ़ सकती है। बड़ा होने पर बड़ा हो सकता है, यह कैसे खतरे की स्थिति में हो सकता है। इस विभाग के विभाग को ध्यान में रखते हुए भारतीय भारतीय है।

मंदिर के पाठक ने वर्षा अधिक से अधिक तेज हो। कई मुर्तियों पर पानी टपक रहा है। गृहस्थी अच्छी नहीं है। हर साल इतनी तेज गति से. इस साल सुधार हो रहा है. सूचना को सूचना दी गई है।

ये भी आगे: छत्तीसगढ़: राज्य में तेज़ तेज़, तेज़ गति, डी गली, वीडियो वायरल

एक हजार साल पहले था मंदिर का निर्माण

भोरमदेव मंदिर का निर्माण एक हजार साल पहले था। 11वीं सदी में फणी वंश की रचना और शिवलिंग की स्थापना की थी। केके समय के समय भगवान् अपडेट होने तक आपका अद्यतन अद्यतन रहेगा। वर्तमान में जो सक्रिय है उसे सुधारें भी महत्वपूर्ण है. इस समस्या को ठीक करने के लिए कार्य करें। इस पर शोध करें। .

आगे हिंदी समाचार ऑनलाइन और देखें लाइव टीवी न्यूज़18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेशी देश हिन्दी में समाचार.

.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *