Nobel Prize 2021: मानेबे, हैसलमैन सहित तीन वैज्ञानिकों को फिजिक्‍स का नोबेल पुरस्‍कार

Nobel Prize 2021: मानेबे, हैसलमैन सहित तीन वैज्ञानिकों को फिजिक्‍स का नोबेल पुरस्‍कार


नई दिल्ली. इस वर्ष भौतकी के नोबेल पुरस्कार के लिए जापान, जर्मनी और इटली के तीन वैज्ञानिकों को चुना गया है. स्यूकूरो मनाबे (90) और क्लॉस हैसलमैन (89) को ‘पृथ्वी की जलवायु की भौतिक ‘मॉडलिंग’, ग्लोबल वॉर्मिंग के पूर्वानुमान की परिवर्तनशीलता और प्रामाणिकता के मापन’ क्षेत्र में उनके कार्यों के लिए चुना गया है. पुरस्कार के दूसरे भाग के लिए जॉर्जियो पारिसी (73) को चुना गया है. उन्हें ‘परमाणु से लेकर ग्रहों के मानदंडों तक भौतिक प्रणालियों में विकार और उतार-चढ़ाव की परस्पर क्रिया की खोज’ के लिए चुना गया है.

निर्णायक मंडल ने कहा कि मनाबे और हैसलमैन ने ‘पृथ्वी की जलवायु और मनुष्य के इस पर प्रभाव के बारे में हमारे ज्ञान की बुनियाद रखी’. मनाबे ने 1960 के दशक की शुरुआत में दर्शाया था कि वातावरण में कार्बन डाईऑक्साइड की मात्रा बढ़ने से वैश्विक तापमान किस तरह बढ़ेगा और इस तरह उन्होंने मौजूदा जलवायु मॉडलों की बुनियाद रखी थी.

बॉलीवुड को टारगेट करना मकसद नहीं, ड्रग्स सिंडिकेट को ध्वस्त करना है एजेंडाः समीर वानखेड़े

इसके करीब एक दशक बाद हैसलमैन ने एक मॉडल बनाया जिसमें मौसम और जलवायु को जोड़ा गया। इससे यह समझने में मदद मिली कि मौसम की तेजी से बदलाव वाली प्रकृति के बाद भी जलवायु संबंधी मॉडल किस तरह प्रामाणिक हो सकते हैं. उन्होंने जलवायु पर मनुष्य के प्रभाव के विशेष संकेतों का पता करने के तरीके भी खोजे.

कोयंबटूर रेप मामले पर बोले वायुसेना प्रमुख- पीड़िता का दावा गलत, नहीं हुई टू फिंगर जांच

पारिसी ने एक गहन भौतिक और गणितीय मॉडल तैयार किया जिससे जटिल प्रणालियों को समझना आसान हुआ. पुरस्कारों की घोषणा के बाद पारिसी ने कहा, ‘‘इस बात की बहुत आवश्यकता है कि हम जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए बहुत कठोर फैसले लें और बहुत तेज रफ्तार से बढ़ें.’’ उन्होंने कहा, ‘‘भावी पीढ़ियों के लिए संदेश है कि हमें अब काम करना होगा.’’

पूर्वी लद्दाख के पास चीनी विमानों की तैनाती चिंता की बात, लेकिन हम हर खतरे से निपटने को तैयार- एयरफोर्स चीफ

रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज के महासचिव गोरन हैन्सन ने मंगलवार को विजेताओं के नाम घोषित किये. किसी एक विषय के संबंधित क्षेत्रों में काम करने वाले एक से अधिक वैज्ञानिकों को साझा तरीके से पुरस्कार दिया जाना आम बात है. इस प्रतिष्ठित पुरस्कार में एक स्वर्ण पदक और एक करोड़ स्वीडिश क्रोनोर (11.4 लाख डॉलर से अधिक) की राशि दी जाती है पुरस्कारों की स्थापना 1895 में स्वीडिश नागरिक अल्फ्रेड नोबेल ने की थी.

10 साल की मासूम से रेप, कोर्ट ने महज 9 दिन में सुनाया फैसला, रेपिस्ट को 20 साल जेल की सजा

पिछले वर्ष भौतिक विज्ञान का नोबेल पुरस्‍कार अमेरिकी वैज्ञानिक आंड्रेया घेज, ब्रिटेन के रोजर पेनरोज और जर्मनी के रिनार्ड गेनजेल को इस पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया था. इन तीनों को ब्‍लैक होल्‍स पर रिसर्च के लिए इस पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया था. इस पुरस्‍कार को हासिल करने वाले व्‍यक्ति को एक गोल्‍ड मेडल के साथ 1.14 मिलियन डॉलर नकद दिए जाते हैं.

अमेरिकी वैज्ञानिकों को चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार
एक दिन पहले ही सोमवार को इस वर्ष का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार अमेरिकी वैज्ञानिकों डेविड जूलियस और आर्डम पातापुतियन को दिए जाने की घोषणा की गई है. उन्हें तापमान और स्पर्श के लिए ‘रिसेप्टर’ की खोज के लिए यह सम्मान दिया गया है. इन ‘रिसेप्टर’ से इंसान तापमान और स्पर्श को महसूस करता है. दोनों वैज्ञानिकों का अध्ययन ‘सोमैटोसेंसेशन’ क्षेत्र पर केंद्रित था जो आंख, कान और त्वचा जैसे विशेष अंगों की क्षमता से संबंधित है.

Tags: Nobel Prize, Science