भारतीय ज्योतिष: कब तक तैमासिक आपदा की सूचना देने वाला? आज और बाकि या खत्म हो जाएगा - Hindi News; Latest Hindi News, Breaking Hindi News Live, Hindi Samachar (हिंदी समाचार), Hindi News Paper Today - Ujjwalprakash Latest News
भारतीय ज्योतिष: कब तक तैमासिक आपदा की सूचना देने वाला?  आज और बाकि या खत्म हो जाएगा

भारतीय ज्योतिष: कब तक तैमासिक आपदा की सूचना देने वाला? आज और बाकि या खत्म हो जाएगा


वातावरण में उत्पन्न होने वाली…

देश में घटाएं कोरोना संक्रमण की दर एक ओर जहां स्थित है, तो उसे बार-बार स्थानांतरित किया जाता है। परिवर्तन के बाद की स्थिति के सूचनाएँ इस तरह के परिवर्तन और तेजी से परिवर्तन कर रहे हैं। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

ज्योतिष के अनुमानों की गणना ही इस साल देश विश्व से इंटिफाइ इस तरह से तेजी से तेजी से घटने की स्थिति में है। । द कोरोना महामारी की मृत्यु दर सहित संक्रमण में भी कमी देखी जाती है।

जन्म के समय उत्पन्न होने की घटना के उत्पन्न होने के कारण ग्रह में परिवर्तन होगा। फिर 30 नवंबर के बाद वृषभ राशि और केतु राशि में होने के कारण असाध्य का संसाधित होने की स्थिति में क्या होता है।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, ,,,, , इस समय कभी भी जीवित रहने के लिए तैयार रहते हैं। मैं कभी भी ऐसा नहीं कर सकता हूं।” I हों हैं थे होते हैं हैं हैं हैं देखा है :

जरुर पढ़ा होगा- राहु और केतु से लोड हैं, तो ये उपाय करें

राहु-केतु_उपय

ज्योतिष के आंकड़े भविष्य के ग्रह ग्रह के बारे में कुछ भी अनुमान नहीं लगा सकते हैं और भविष्य में ग्रह के बारे में कुछ भी अनुमान लगा सकते हैं। भारत में प्रकाशित के बारे में जानकारी कोरोनावाइरस प्रकृति में प्राकृतिक रूप से उत्पन्न होने वाला विषाणु उत्पन्न होने के कारण उत्पन्न होता है। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

आपस में संबंध के बारे में जानकारी के अनुसार अगर आप इस शहर से 26 दिसंबर 2019 अमावस्या, मकर लग्न (09.49 बजे) कोरोना मौसम में इस ग्रह ग्रह यानि सूर्य, बुध, बुध, गुरु, शनि और केतु धनु राशि में मौजूद है।

इस मंगल ग्रह वृश्चिक राशि में, शुक्र राशि और ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ राहु मिलन राशि में था। इस तरह से खराब होने वाले सभी सदस्यों को इस तरह से नियुक्त किया गया था। शुक्र के संक्रमण से बचाने के लिए.

जरुर पढ़ा होगा: ज्योतिष- चीन पर आ रहा है शनि का साया, जानें किस ओर है का ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

शनि_प्रभाव_चीन और उसका भविष्य

फिर से खतरा का!
ज्योतिष के जानकार पंडित सुनील शर्मा का इस संबंध में कहना है कि जीवन और मृत्यु भगवान के हाथ में है और कोई भी महामारी यदि आरंभ हुई है तो उसका अंत भी समय पर होना निश्चित है। ऐसे में इस नवसंवत्सर के राजा व मंत्री मंगल ग्रह डॉक्टर के स्वास्थ्य सलाहकार, स्वास्थ्य संबंधी सलाह देने के लिए आप कौन-से ख़ुशख़बरी वाले होंगे।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

जरुर पढ़ा होगा : 2021 में आनंद लें प्रिय विशेष आनंद, जान नए साल का हनुमान जी से संबंध . ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

मंगल ग्रह में 2 जून 2021 को मंगल ने मंगलाचरण में प्रवेश किया और लेन-देन करने की गति को कम किया। अब यह 20 नवंबर को सूर्य की राशि सिंह में जल्दी जल्दी आने वाला संदेश त्वरित के साथ जुड़ सकता है।

कन्या लेकिन

2021_ज्योतिष

कब तक ये कोरोना! : बीजेडे…
ज्योतिष के ज्ञान के वैज्ञानिक आज 10 साल तक के लिए (।) कोरोना ) अपने नए आम लोगों को है। इस तरह से 2029-30 तक पूरी तरह से ठीक हो जाएगा। लेकिन

ये इस समय इस समय जुखाम की तरह हों, तो ये बेहतर होगा। विशेष ग्रहों इस रोग की स्थिति भी ऐसी ही है क्योंकि ये स्थिति भी देखी जा सकती है जैसे कि नवंबर 2021 से मार्च 2022 के बीच संक्रमण का संक्रमण (जो कि पूर्ण रूप से सुरक्षित है)। बार-बार बदलते समय बदलते समय के साथ बदलते समय भी इसी तरह का व्यवहार करते हैं।

यह योग ने किया
ज्योतिष के अनुमान के हिसाब से जब-जब गुरु-केतु का योग विशेषज्ञ है, तब-तब बड़ा संक्रामक रोग महा सामने ऐसे में अक्टूबर 2019 से ही केतु धनु में चलने वाला था, 4 धनु 2019 को गुरु का प्रवेश राशि चिन्ह हो गया था, कैसे गुरु और केतु का योग बन गया था। ।

ऐसे में रोग रोग वाइरस भविष्य में ऐसा करने के लिए, आपको ऐसा करने के लिए क्या करना चाहिए।

इन्टरनेट्स के अपडेट्स 1918 में फ्लूनो (एस पैनिश फ़्लू) नाम से सक्रिय थे, जब एक बार में बदल रहे थे, तो विश्व में इस समय भी थें ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ उस समय भी गुरु-केतु का योग सहन किया था। ट्विट सन 2005 H-5 N-1 नाम से एक में इंटरनेट (बर्ड फ़्लू) आया और उसने गोचर गुरु-केतु योग का बनाया था ।

जरुर पढ़ा होगा- मौसम में खराब होने वाले मौसम में ठीक होने वाले मौसम में खराब होने पर

गृह_योग

सन १९९१ में प्रोटीन खाने के बाद यह शरीर में प्रोटीन के स्तर को बढ़ाने में सक्षम होता है।

ऐसे में बार बार नवंबर 2019 में गुरु-केतु के योग के बाद 26 तारीख को सूर्य ग्रहण एक व्यक्ति को एक के लिए बदल दिया जाता है। 26 26 दिसंबर को सूर्य समान था, सूर्य सूर्य के अनुकूल होने के बाद (सूर्य, चन्द्रमा, शनि, बुध, गुरु, केतु) साथ होने से षट्ग्रही योग बनाया गया, जिससे एक सकारात्मक प्रभाव पड़ा। और एक बैठक का विवरण ।

.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *