शव

उत्तराखंड: रुद्रपुर में सिलिंडर में भड़की आग में जलकर पिता-पुत्र की मौत, पत्नी अस्पताल में भर्ती


संवाद न्यूज एजेंसी, रुद्रपुर
Published by: अलका त्यागी
Updated Tue, 16 Nov 2021 10:48 AM IST

सार

सामने आया कि खाना बनाते समय सिलिंडर में आग लग गई। इससे कमरे में मौजूद 30 वर्षीय केदार सिंह और पास ही सो रहा दो साल का बेटा वंश आग की चपेट में आ गए।

ख़बर सुनें

उत्तराखंड के रुद्रपुर में सिलिंडर में भड़की आग की चपेट में आकर पिता पुत्र की मौत हो गई जबकि कमरे से बाहर आई मृतक की पत्नी बच गई। हालांकि, पति और मासूम बेटे की मौत से महिला बेसुध है और उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उसका इलाज चल रहा है।

सोमवार रात करीब दस बजे ट्रांजिट कैंप थाना क्षेत्र के ठाकुरनगर स्थित एक मकान में खाना बनाते समय सिलिंडर में आग लग गई। इससे कमरे में मौजूद 30 वर्षीय केदार सिंह और पास ही सो रहा दो साल का बेटा वंश आग की चपेट में आ गए।

केदार की पत्नी नेहा किसी काम से कमरे से बाहर आ गई थी जिससे वह बच गई। कमरे में भड़की आग देख नेहा चीखने चिल्लाने लगी और पति और बेटे को आग की लपटों से घिरा देख बेसुध हो गई। चीख पुकार सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंच गए और ट्रांजिट थाने की पुलिस व अग्निशमन विभाग को हादसे की सूचना दी।

सूचना पर थाने के दरोगा विजय सिंह व कौशल भाकुनी मय पुलिस बल और दमकल कर्मी भी मय वाहन के आग बुझाने पहुंचे। पुलिस और दमकल कर्मियों ने मशक्कत कर आग पर तो काबू पा लिया लेकिन केदार सिंह और उनके मासूम बेटे की आग से झुलसकर मौत हो गई।

पिता-पुत्र और नेहा तीनों को जिला अस्पताल लाया गया। डॉक्टर ने केदार व उनके बेटे वंश को मृत घोषित कर दिया जबकि नेहा का इलाज चल रहा है। हृदयविदारक हादसे से आसपास के लोग भी स्तब्ध हैं। एक साथ दो मौतों ने सभी को झकझोर कर रख दिया। पुलिस ने अनुसार मकान में रखा सामान भी जल गया है।

विस्तार

उत्तराखंड के रुद्रपुर में सिलिंडर में भड़की आग की चपेट में आकर पिता पुत्र की मौत हो गई जबकि कमरे से बाहर आई मृतक की पत्नी बच गई। हालांकि, पति और मासूम बेटे की मौत से महिला बेसुध है और उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उसका इलाज चल रहा है।

सोमवार रात करीब दस बजे ट्रांजिट कैंप थाना क्षेत्र के ठाकुरनगर स्थित एक मकान में खाना बनाते समय सिलिंडर में आग लग गई। इससे कमरे में मौजूद 30 वर्षीय केदार सिंह और पास ही सो रहा दो साल का बेटा वंश आग की चपेट में आ गए।

केदार की पत्नी नेहा किसी काम से कमरे से बाहर आ गई थी जिससे वह बच गई। कमरे में भड़की आग देख नेहा चीखने चिल्लाने लगी और पति और बेटे को आग की लपटों से घिरा देख बेसुध हो गई। चीख पुकार सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंच गए और ट्रांजिट थाने की पुलिस व अग्निशमन विभाग को हादसे की सूचना दी।

सूचना पर थाने के दरोगा विजय सिंह व कौशल भाकुनी मय पुलिस बल और दमकल कर्मी भी मय वाहन के आग बुझाने पहुंचे। पुलिस और दमकल कर्मियों ने मशक्कत कर आग पर तो काबू पा लिया लेकिन केदार सिंह और उनके मासूम बेटे की आग से झुलसकर मौत हो गई।

पिता-पुत्र और नेहा तीनों को जिला अस्पताल लाया गया। डॉक्टर ने केदार व उनके बेटे वंश को मृत घोषित कर दिया जबकि नेहा का इलाज चल रहा है। हृदयविदारक हादसे से आसपास के लोग भी स्तब्ध हैं। एक साथ दो मौतों ने सभी को झकझोर कर रख दिया। पुलिस ने अनुसार मकान में रखा सामान भी जल गया है।

Bengali Bengali English English Gujarati Gujarati Hindi Hindi Malayalam Malayalam Marathi Marathi Nepali Nepali Punjabi Punjabi Tamil Tamil Telugu Telugu


About Us | Privacy Policy | Term & Condition | Refund Policy | Disclaimer | Contact Us