महाराजा बॉक्स ऑफिस कलेक्शन, दिन 4: सोमवार को विजय सेतुपति अभिनीत फिल्म की कमाई में हल्की गिरावट आई। अनुसार, महाराजा ने रिलीज के चौथे दिन लगभग ₹6 करोड़ कमाए। यह फिल्म सुधन सुंदरम और जगदीश पलाईनसामी द्वारा Passion Studios और The Route के बैनर तले निर्मित की गई है।

महाराजा इंडिया बॉक्स ऑफिस

फिल्म ने पहले दिन ₹4.7 करोड़ [तमिल: ₹3.6 करोड़; तेलुगु: ₹1.1 करोड़], दूसरे दिन ₹7.75 करोड़ [तमिल: ₹5.85 करोड़; तेलुगु: ₹1.9 करोड़] और तीसरे दिन ₹9.4 करोड़ [तमिल: ₹7.25 करोड़; तेलुगु: ₹2.15 करोड़] कमाए। प्रारंभिक अनुमानों के अनुसार, फिल्म ने चौथे दिन भारत में ₹5.50 करोड़ शुद्ध कमाए। अब तक, फिल्म ने कुल ₹27.35 करोड़ की कमाई की है। सोमवार को महाराजा की कुल तमिल ऑक्यूपेंसी 33.83% थी।

फिल्म की कमाई की गति को देखते हुए, यह अनुमान लगाया जा रहा है कि फिल्म जल्द ही ₹30 करोड़ का आंकड़ा पार कर जाएगी। फिल्म की सफलता ने इसे दर्शकों और आलोचकों दोनों के बीच लोकप्रिय बना दिया है। यह विजय सेतुपति की एक और हिट फिल्म साबित हो रही है और उनके प्रशंसक उनकी शानदार अदाकारी की सराहना कर रहे हैं।

महाराजा की समीक्षा

हिंदुस्तान टाइम्स की महाराजा समीक्षा में कहा गया, “निथिलान ने हमें एक धीमी गति से जलने वाला थ्रिलर प्रस्तुत किया है। पहले भाग में, हम कई पात्रों को देखते हैं जो अप्रासंगिक लगते हैं लेकिन जब आप इंटरवल तक पहुँचते हैं, तो आप महसूस करते हैं कि यहाँ बड़े खेल चल रहे हैं। दूसरे भाग में आप डॉट्स को जोड़ने लगते हैं और समझते हैं कि महाराजा लक्ष्मी को खोजने के मिशन पर क्यों है।”

समीक्षक ने आगे कहा, “विजय सेतुपति ने महाराजा के किरदार को बड़ी ही सहजता और गहराई के साथ निभाया है। उनकी अदाकारी ने इस चरित्र को जीवंत कर दिया है और दर्शक उनके साथ जुड़ाव महसूस करते हैं। फिल्म की सिनेमैटोग्राफी और संगीत भी बेहद प्रभावशाली है, जो कहानी को और भी आकर्षक बनाता है।”

महाराजा के बारे में

निथिलान समिनाथन द्वारा निर्देशित इस फिल्म में अनुराग कश्यप, ममता मोहनदास, नट्टी (नटराज), भरतिराजा, अभिरामी, सिंगमपुली और कल्कि भी हैं। यह फिल्म एक साधारण नाई और उसके बच्चे के प्रति उसके प्रेम की कहानी बताती है। एक दिन, वह खुद को पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करते हुए पाता है क्योंकि ‘लक्ष्मी’ चोरी हो गई है। अजनीश लोकनाथ ने फिल्म के लिए संगीत की रचना की है।

फिल्म की कहानी एक नाई के संघर्ष और उसके बच्चे के प्रति उसकी ममता की मार्मिक गाथा है। कहानी में एक दिन वह नाई खुद को पुलिस स्टेशन में पाता है, जहां वह अपने बच्चे ‘लक्ष्मी’ के गायब होने की रिपोर्ट दर्ज करता है। फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे वह नाई अपने बच्चे को ढूंढने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार है। इस दौरान उसकी मुलाकात कई दिलचस्प और विचित्र पात्रों से होती है, जो कहानी को और भी रोमांचक बनाते हैं।

फिल्म में अनुराग कश्यप का किरदार भी अहम है। उनकी अदाकारी ने फिल्म को एक अलग ही ऊंचाई पर पहुंचा दिया है। ममता मोहनदास और नट्टी ने भी अपने-अपने किरदारों को बखूबी निभाया है। भरतिराजा, अभिरामी, सिंगमपुली और कल्कि ने फिल्म में अपनी उपस्थिति से कहानी को और भी जीवंत बना दिया है।

दर्शकों की प्रतिक्रिया

दर्शकों की प्रतिक्रिया भी फिल्म के पक्ष में रही है। कई दर्शकों ने फिल्म को सोशल मीडिया पर सराहा है और इसे देखने की सिफारिश की है। फिल्म की रिलीज के बाद से ही यह चर्चा में बनी हुई है और हर दिन इसके प्रशंसकों की संख्या बढ़ती जा रही है।

फिल्म विशेषज्ञों का मानना है कि महाराजा की कहानी और प्रस्तुति ने दर्शकों के दिलों में एक खास जगह बनाई है। विजय सेतुपति की अभिनय क्षमता और फिल्म की निर्माण गुणवत्ता ने इसे बॉक्स ऑफिस पर सफलता दिलाई है।

भविष्य की संभावनाएँ

महाराजा की सफलता ने इसे न केवल भारत में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी एक महत्वपूर्ण फिल्म बना दिया है। फिल्म की अच्छी कमाई ने यह साबित कर दिया है कि अच्छी कहानी और अदाकारी हमेशा दर्शकों को सिनेमाघरों तक खींच लाती है। विशेषज्ञों का मानना है कि फिल्म की कमाई आने वाले दिनों में और भी बढ़ सकती है, खासकर जब यह अन्य भाषाओं में डब होकर रिलीज होगी।

महाराजा का अब तक का सफर बेहद सफल रहा है और यह फिल्म विजय सेतुपति के करियर में एक और मील का पत्थर साबित हो सकती है। फिल्म ने यह भी दिखाया है कि तमिल और तेलुगु फिल्मों की लोकप्रियता अब राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी बढ़ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *